ALL क्राइम न्यूज स्वास्थ्य घरेलू नुस्खे उत्तर प्रदेश अध्यात्म कोरोना वायरस देश बलिया समाचार दुष्कर्म मनोरंजन
यूपी में ठाकुरों के सामने नतमस्तक नहीं हुआ दलित प्रधान तो गोलियों से भून डाला, इलाके में तनाव
August 16, 2020 • परिवर्तन चक्र

उत्तर प्रदेश के आजमगढ़ स्थित एक गांव में मामूली कहासुनी के बाद एक दलित प्रधान की हत्या हो गई, इसके बाद से ही इलाके में तनाव का माहौल है।

उत्तर प्रदेश के आजमगढ़ में पिछले दो दिनों से तनाव फैला हुआ है। यहां स्थित बांसगाव में हाल ही में दलित प्रधान की गोली मारकर हत्या कर दी गई। इस हत्या के पीछे कथित तौर पर गांव में ही रहने वाली उच्च जातियों को जिम्मेदार बताया गया है। इस घटना के बाद शुक्रवार से शनिवार के बीच दलित समुदाय सड़कों पर उतर आया और पत्थरबाजी और आगजनी जैसी घटनाओं को अंजाम दिया। साथ ही एक पुलिस चेक पोस्ट में भी तोड़फोड़ की।

घटना में मारे गए 42 वर्षीय दलित का नाम सत्यमेव जयते बताया गया है। वह पहली बार ही बांसगांव का प्रधान बना था। दलितों का आरोप है कि सत्यमेव ने ठाकुरों के आगे नतमस्तक होने से इनकार कर दिया। इसीलिए उसे मार डाला गया। गौरतलब है कि आजमगढ़ के बांसगांव में ऊंची जातियों के मुकाबले दलितों की संख्या करीब 5 गुना है, इसके बावजूद यूपी के अन्य जिलों की तरह यहां भी फिलहाल असल ताकत ब्राह्मण और ठाकुरों की पकड़ में मानी जाती है।

पुलिस की शुरुआती जांच के मुताबिक, घटना के दिन सत्यमेव गांव के बाहर एक प्राइवेट स्कूल के बाहर से गुजर रहा था। यहां उसके दोस्त विवेक सिंह और सूर्यांश दुबे उसे पास के ही ट्यूबवेल पर खाना खिलाने के बहाने ले गए। बताया गया है कि इसी दौरान उनके बीच में किसी बात को लेकर विवाद हो गया और सत्यमेव के दोस्तों ने उसे गोली मार दी। इसके बाद आरोपियों ने सत्यमेव के परिवार को हत्या की जानकारी दी और घटनास्थल से फरार हो गए। हालांकि, गांव के दलित समुदाय ने घटना के विरोध में सड़क जाम की और विरोध प्रदर्शन किया, जो कि बाद में हिंसक हो उठा।

इस पूरे मामले में आजमगढ़ रेंज के डीआईजी सुभाष चंद्र दुबे का कहना है कि वे जब तक आरोपियों को गिरफ्तार कर उनसे पूछताछ नहीं कर लेते, तब तक वे सत्यमेव के परिवार के दावों पर ही चल रहे हैं। उन्होंने कहा कि अभी तक हत्या की वजह का पता नहीं चल पाया है, लेकिन यह घटना काफी गंभीर है, क्योंकि यह जनता के एक चुने हुए प्रतिनिधि के साथ हुई है।