ALL क्राइम न्यूज स्वास्थ्य घरेलू नुस्खे उत्तर प्रदेश अध्यात्म कोरोना वायरस देश बलिया समाचार दुष्कर्म मनोरंजन
वैज्ञानिकों ने ढूंढ़ लिया कोरोना को खत्म करने वाली गैस, कुछ ही घंटों में मर जाएगा वायरस !
August 27, 2020 • परिवर्तन चक्र

नई दिल्ली। दुनियाभर में कोरोनावायरस ने तबाही मचा रखी है। रोजाना हजारों लोग इस वायारस की वजह से अपनी जान गवा रहे हैं। ताजे आंकड़े के मुताबिक 2.4 करोड़ से अधिक लोगो कोरोना संक्रमित हो चुके हैं और 8.2 लाख से अधिक लोग अपनी जान गवां चुके हैं।

हालांकि इस वायरस के कुछ वैक्सीन बनाए जा चुके हैं। साथ ही कोरोना को लेकर दुनियाभर के शोधकर्ताओं लगातार रिसर्च भी कर रहे हैं। हाल ही में जापान के शोधकर्ताओं ने कोरोना को खत्म करने का नायाब फार्मूले का पता लगा लिया है।

डेली मेल की एक रिपोर्ट के मुताबिक जापान के शोधकर्ताओं ने कोरोना को रोकने का नया तरीका ढूंढने का दावा किया है। दावे के मुताबिक शोधकर्ताओं का कहना है कि ओजोन की कम सांद्रता (concentration) कोरोना वायरस के कणों को बेअसर कर सकती है। इसके साथ ही इस तरीके से अस्पतालों को भी सुरक्षित बनाया जा सकता है

रिपोर्ट के मुताबिक Fujita Health University of Japan के शोधकर्ताओं ने इस नए तरीके को खोजा है। शोध के मुताबिक यह साबित हो चुका है कि कम घनत्व वाली ओजोन गैस (0.05 से 0.1 पीपीएम) से वायरस को नष्ट किया जा सकता है।

शोधकर्ताओं का कहना है कि ओजोन की कम सांद्रता (concentration) कोरोना वायरस के कणों को बेअसर कर सकती है। इसके साथ ही गैस की मदद से अस्पतालों और वेटिंग रूम को कीटाणुरहित किया जा सकता है। शोध करने के लिए वैज्ञानिकों ने ओजोन जनरेटर का उपयोग किया था.

बता दें इस शोध के लिए वैज्ञानिकों ने कोरोना वायरस से भरे एक चैंबर में ओजोन जनरेटर (Ozone generator) लगाया। 10 घंटे के बाद पता चला कि कोरोना वायरस की क्षमता 90 फीसदी से अधिक घट गई थी।

इस शोध के मुखिया Takayuki Murata ने बताया कि कम सांद्रता के ओजोन से कोरोना वायरस महामारी को फैलने से रोका जा सकता है. भले ही उस जगह पर कितने लोग भी मौजूद हों, कम सांद्रता के ओजोन ट्रीटमेंट का इस्तेमाल कभी भी किया जा सकता है।

साभार-पत्रिका