ALL क्राइम न्यूज स्वास्थ्य घरेलू नुस्खे उत्तर प्रदेश अध्यात्म कोरोना वायरस देश बलिया समाचार दुष्कर्म मनोरंजन
उपमुख्यमंत्री श्री केशव प्रसाद मौर्य ने डाॅ० श्यामा प्रसाद मुखर्जी के चित्र पर किया माल्यार्पण
July 6, 2020 • परिवर्तन चक्र

डॉ० श्यामा प्रसाद मुखर्जी के विचार आज भी प्रासंगिक व प्रेरणाप्रद

आत्मनिर्भर भारत बनाने में डॉ श्यामा प्रसाद  का जीवन दर्शन अनुकरणीय : केशव प्रसाद मौर्य  

लखनऊः 6 जुलाई 2020। डाॅ०श्यामा प्रसाद मुखर्जी की जयंती पर आज उत्तर प्रदेश के उपमुख्यमंत्री श्री केशव प्रसाद मौर्य ने डॉ० श्यामा प्रसाद मुखर्जी सिविल अस्पताल लखनऊ में उनकी भव्य प्रतिमा पर पुष्प अर्पित करते हुए उनके चित्र पर माल्यार्पण किया और श्रद्धा सुमन अर्पित करते हुए उन्हें नमन किया।

इस अवसर पर उन्होंने कहा कि डॉ० श्यामा प्रसाद मुखर्जी भारत माता के सच्चे सपूत थे। उनके जीवन दर्शन पर प्रकाश डालते हुए श्री केशव प्रसाद मौर्य ने कहा कि वह सच्चे देशभक्त थे। देश के विकास के लिए उनका बहुत बड़ा योगदान रहा।  देश को एकता के सूत्र में पिरोने के लिए उन्होंने  अदम्य साहस का परिचय दिया था।

श्री केशव प्रसाद  मौर्य ने अपने प्रेरक, ओजस्वी व अर्थपूर्ण  सम्बोधन  मे उनके जीवन दर्शन व उनके सुकृत्यो पर प्रकाश डाला और कहा कि उन्होने देश को एकता  के सूत्र मे पिरोने का साहसिक कार्य किया। कहा कि उनके विचार व उनके आदर्श देश के लिए आज भी प्रेरणादायक हैं। राष्ट्र के उत्थान के लिए उनका सेवा भाव अनुकरणीय है। समतामूलक समाज की स्थापना व अखंड भारत की परिकल्पना के पोषक उनके विचार आत्मनिर्भर भारत बनाने में अनुकरणीय व सहायक हैं।

श्री मौर्य ने कहा कि डॉ० श्यामा प्रसाद मुखर्जी का नारा था   कि -एक देश में दो विधान, दो निशान, दो प्रधान नहीं चलेंगे। उनका त्याग, समर्पण, संघर्ष और बलिदान देशवासियों को हमेशा प्रेरित करता रहेगा। राष्ट्रीय एकता व अखंडता के लिए दिये गये उनके सर्वोच्च बलिदान  के लिए देश सदैव उनका कृतज्ञ रहेगा व ऋणी रहेगा।

श्री केशव प्रसाद मौर्य ने कहा कि भारत के यशस्वी प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी के नेतृत्व में सरकार द्वारा, जम्मू कश्मीर से धारा 370 व 35-ए हटाकर डॉ०श्यामा प्रसाद मुखर्जी के सपनों को साकार किया गया है। उन्होंने कहा कि आज हम सभी देशवासी व प्रदेशवासी एकजुट होकर डॉ० श्यामा प्रसाद मुखर्जी के आदर्शों पर चलकर राष्ट्र निर्माण के लिए पूरे मनोयोग  के कार्य  करे।यही उनके प्रति सच्ची श्रद्धांजलि  होगी।