ALL क्राइम न्यूज स्वास्थ्य घरेलू नुस्खे उत्तर प्रदेश अध्यात्म कोरोना वायरस देश बलिया समाचार दुष्कर्म मनोरंजन
स्वास्थ्य : अनार में मौजूद हैं ये आयुर्वेदिक गुण–अन्त तक जरूर पढ़े
September 17, 2020 • परिवर्तन चक्र • घरेलू नुस्खे

 अनार में काफी मात्रा में आयरन होता है, जो शरीर में हिमोग्लोबिन की मात्रा को बढ़ाता है. बीमार व्यक्तियों में आयरन की मात्रा कम हो जाती है, इसलिए उन्हें अनार खिलाया जाता है.

अक्सर यह देखा गया है कि जब भी कोई व्यक्ति किसी बड़ी बीमारी से ठीक होता है तो उसे अनार खिलाया जाता है. दरअसल अनार में काफी मात्रा में आयरन होता है, जो शरीर में हिमोग्लोबिन की मात्रा को बढ़ाता है. बीमार व्यक्तियों में आयरन की मात्रा कम हो जाती है, इसलिए उन्हें अनार खिलाया जाता है. इसके अतिरिक्त अनार के दाने में काफी मात्रा में कार्बोहाइड्रेट, मैग्नीशियम, पोटेशियम, आयरन, टेनिन, विटामिन्स होते हैं. आयुर्वेद में अनार के अलावा उसके दाने, पत्ते, जड़, फूल, बीज के छिलके को भी काफी गुणकारी बताया गया हैं. डॉ. लक्ष्मीदत्ता शुक्ला के अनुसार, अनार के पत्ते कई बीमारियों का इलाज कर सकते हैं, जैसे- पेट में दर्द, अनिद्रा, एक्जिमा, मुंह के छाले. आइए जानते हैं अनार कैसे शारीरिक स्वास्थ्य के लिए लाभदायक है.

पायरिया के रोग में फायदेमंद अनार के फूल

दांतों से खून निकलने को पायरिया की बीमारी कहा जाता है. इस समस्या से निजात पाने के लिए अनार के सूखे हुए फूल बारीक पीस लें. इस चूर्ण को मंजन की तरह दिन में 2-3 बार इस्तेमाल करें. दांतों से खून आना बंद होगा और साथ ही दांत भी मजबूत होंगे।

नाक से खून आने की समस्या में लाभदायक

नाक से खून आने की समस्या है तो नाक में अनार की कुछ बूंदे डालें. इससे कुछ समय बाद खून आना बंद हो जाएगा. ज्यादातर यह समस्या गर्मी के मौसम में होती है. अनार की प्रकृति ठंडी होती है, इससे शरीर की गर्मी कम होती है.

पेट दर्द की जड़ी-बूटी

अक्सर यह देखा गया है कि जब भी कोई व्यक्ति किसी बड़ी बीमारी से ठीक होता है तो उसे अनार खिलाया जाता है. दरअसल अनार में काफी मात्रा में आयरनहोता है, जो शरीर में हिमोग्लोबिन की मात्रा को बढ़ाता है. बीमार व्यक्तियों में आयरन की मात्रा कम हो जाती है, इसलिए उन्हें अनार खिलाया जाता है. इसके अतिरिक्त अनार के दाने में काफी मात्रा में कार्बोहाइड्रेट, मैग्नीशियम, पोटेशियम, आयरन, टेनिन, विटामिन्स होते हैं. आयुर्वेद में अनार के अलावा उसके दाने, पत्ते, जड़, फूल, बीज के छिलके को भी काफी गुणकारी बताया गया हैं. डॉ. लक्ष्मीदत्ता शुक्ला के अनुसार, अनार के पत्ते कई बीमारियों का इलाज कर सकते हैं, जैसे- पेट में दर्द, अनिद्रा, एक्जिमा, मुंह के छाले. आइए जानते हैं अनार कैसे शारीरिक स्वास्थ्य के लिए लाभदायक है।

भूख बढ़ाने व भोजन पचाने की औषधि

डॉ. लक्ष्मीदत्ता शुक्ला के अनुसार, यदि भूख बहुत ही कम लगती हो या पाचन संबंधित परेशानी हो तो इसमें अनार के दाने काफी फायदेमंद होते हैं. भूख बढ़ाने के लिए सेंधा नमक, काली मिर्च, जीरा, अल्प मात्रा में हींग आदि सभी लेकर चूर्ण तैयार कर लें और इसका सेवन करते रहें. पाचन ठीक करने के लिए 3 चम्मच अनार के रस में एक चम्मच जीरा और गुड़ मिलाकर भोजन के बाद खाएं. इससे पाचन अच्छा होगा और पाचन संबंधित सभी समस्याएं ठीक होंगी।

कृमि रोग की कारगर दवा अनार के छिलके

पेट के कीड़ों को खत्म करने के लिए अनार के छिलके का प्रयोग काफी कारगर नुस्खा है. बच्चों में यह समस्या आम होती है. इसे दूर करने के लिए अनार के सूखे छिलकों के चूर्ण की एक चम्मच की मात्रा में दिन में 3 बार रोज कुछ दिन तक देते रहें. इससे पेट के कीड़े खत्म हो जाएंगे. यही चूर्ण बवासीर या मासिक धर्म में अधिक रक्तस्राव के दौरान करने से भी लाभ होगा.

चेहरे के सौंदर्य को बढ़ाने में सहायक अनार के छिलके

चेहरे की सुंदरता बढ़ाने के लिए गुलाब जल में अनार के छिलकों का बारीक चूर्ण मिलाकर इसका लेप तैयार करें. इस लेप को रोज सोते समय नियमित रूप से लगाकर सुबह चेहरा धो लें. इससे चेहरे के दाग, धब्बे, झाइयां दूर हो जाएंगी।

अस्वीकरण : इस लेख में दी गयी जानकारी कुछ खास स्वास्थ्य स्थितियों और उनके संभावित उपचार के संबंध में शैक्षणिक उद्देश्यों के लिए है। यह किसी योग्य और लाइसेंस प्राप्त चिकित्सक द्वारा दी जाने वाली स्वास्थ्य सेवा, जांच, निदान और इलाज का विकल्प नहीं है। यदि आप, आपका बच्चा या कोई करीबी ऐसी किसी स्वास्थ्य समस्या का सामना कर रहा है, जिसके बारे में यहां बताया गया है तो जल्द से जल्द डॉक्टर से संपर्क करें। यहां पर दी गयी जानकारी का उपयोग किसी भी स्वास्थ्य संबंधी समस्या या बीमारी के निदान या उपचार के लिए बिना विशेषज्ञ की सलाह के ना करें। यदि आप ऐसा करते हैं तो ऐसी स्थिति में आपको होने वाले किसी भी तरह से संभावित नुकसान के लिए parivartanchakra.page जिम्मेदार नही होगा।