ALL क्राइम न्यूज स्वास्थ्य घरेलू नुस्खे उत्तर प्रदेश अध्यात्म कोरोना वायरस देश बलिया समाचार दुष्कर्म मनोरंजन
पृथ्वी की बहन पर बरपा कोरोना का कहर, एक साथ फटे हैं 37 ज्वालामुखी ! जानें पूरा मामला
July 23, 2020 • परिवर्तन चक्र

नई दिल्ला। इन दिनों पूरी दुनिया कोरोना (Coronavirus) का दंश झेल रही है। 1.5 करोड़ से अधिक लोगो कोरोना से संक्रमित हो चुके हैं। धरती के अलावा दूरे ग्रह पर भी कोरोना (Corona) का कहर बरप रहा है। हालंकि इस कोरोना का वायरस से कोई लेना देना नहीं। दरअसल, यूनिवर्सिटी ऑफ मैरीलैंड (University of Maryland) के वैज्ञानिकों ने धरती के नजदीकी ग्रह शुक्र ग्रह पर 37 ज्वालामुखीयों (Volcanic) का पता लगाया है। जिनका हाल ही में विस्फोट हुआ है।

ये सभी ज्वालामुखी (Volcanic) थोड़े-थोड़े अंतर पर अब भी फट रहे हैं और इन विस्फोटों की वजह से सतह पर कोरोने या कोरोना (Coronae/Corona) जैसे ढांचे बन गए। यहां कोरोना जैसे ढांचों का मतलब होता है कि गोल घेरे जो बेहद गहरे और बड़े हैं। इन घेरों की गहराई शुक्र ग्रह (Venus) के काफी अंदर तक है।

हाल ही में इन घेरों से ही ज्वालामुखीय लावा बहकर ऊपर आया था। अभी इनसे गर्म गैस निकल रही है। इसके साथ ही ज्वालामुखी लावा ग्रह के कोरोना गड्ढे में बह रहे हैं। ये 37 ज्वालामुखी ज्यादातर शुक्र ग्रह (Venus) के दक्षिणी गोलार्द्ध पर स्थित है।

इस घटना के पहले तक वैज्ञानिकों को लगता था कि शुक्र ग्रह (Venus) की टेक्टोनिक प्लेट्स शांत हैं। लेकिन इस घटना ने सभी बातों को झुटला दिया है। इन ज्वालामुखीय विस्फोटों (Volcanic eruptions) की वजह भूकंप आ रहे हैं। टेक्टोनिक प्लेट्स लगातार हिल रही हैं।

नेचर जियोसाइंस (Nature geoscience) में प्रकाशित एक रिपोर्ट में इन सभी ज्वालामुखीय विस्फोटों के बारे में विस्तार से बताया गया है। इसके साथ ही इस रिसर्च में शामिल इंस्टीट्यूट ऑफ जियोफिजिक्स की वैज्ञानिक एना गुल्चर ने कहा कि शुक्र ग्रह भौगोलिक रूप से शांत नहीं है। न कभी था। न ही रहने की संभावना है।