ALL ताजा खबरें राष्ट्रीय समाचार परिवर्तन चक्र स्पेशल शिक्षा समाचार दुनिया समाचार क्रिकेट समाचार मनोरंजन समाचार पॉलिटिक्स समाचार क्राइम समाचार साहित्य संग्रह
प्रवासी/अवरुद्ध प्रवासी जिन्हें अस्थाई राशन कार्ड जारी हुआ है उन्हें निःशुल्क होगा खाद्यान्न का वितरण
June 11, 2020 • परिवर्तन चक्र

बलिया। प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजनातर्गत नि:शुल्क चना वितरण तथा आत्मनिर्भर भारत योजनातर्गत प्रवासियों को नि:शुल्क गेहूं, चावल व चने का वितरण समाप्त होने की तिथि 11 जून तक थी, को विस्तारित करते हुए अब 14 जून कर दिया गया है। पाक्सी वितरण 11 जून को होगा। 12 से 14 जून तक केवल आधार आधारित बायोमेट्रिक वितरण होगा। प्रथम चक्र में प्रवासी/अवरुद्ध प्रवासी जिन्हें अस्थाई राशन कार्ड जारी किया गया है उन्हें प्रति यूनिट 05 किग्रा 03 किग्रा गेहूं, 02 किग्रा चावल खाद्यान्न तथा 01 किग्रा चना नि:शुल्क वितरण 14 जून तक किया जाएगा। नियमित वितरण के मध्य प्रवासी आवंटन पोटेबिलिटी खाद्यान्न का चालान 13 जून तक प्राप्त किया जा सकता है। पूर्व में द्वितीय चक्र 15 से 25 जून तक नियत था, अब परिवर्तित करके द्वितीय चक्र 20 जून से प्रारंभ होकर 30 जून के मध्य वितरण होगा। द्वितीय चक्र में वितरण की अंतिम तिथि 30 जून है और उसी दिन पाक्सी वितरण भी होगा। द्वितीय चक्र में उचित दर दुकानों से समस्त अंत्योदय एवं पात्र गृहस्थी कार्डधारको में प्रति यूनिट के हिसाब से निःशुल्क खाद्यान्न वितरण होना है। 30 जून को द्वितीय चक्र का वितरण का अंतिम दिवस होगा और उसी दिन ई-पास मशीनों पर अंगूठा न पकड़ने वालों की पाक्सी आधार की छायाप्रति एवं मोबाइल नंबर ले जाने पर होगी। पोटेबलिटी चालान 20 से 29 जून तक जारी होगा।

चयनित लाभार्थियों को दूरभाष व अन्य माध्यम से सूचित करें

जनपद के ऐसे प्रवासी जो राशन कार्ड से वंचित हो को पुनः सूचित करते हुए जिला पूर्ति अधिकारी कृष्णा गोपाल पांडेय ने बताया कि यदि उनका राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा योजना में राशन कार्ड नहीं बना है तो संबंधित विकास खंड/नगर क्षेत्र के खंड विकास अधिकारी अथवा अधिशासी अधिकारी को सर्वे फार्म भरकर उपलब्ध करा दें, जिससे कि उन्हें अस्थाई राशन कार्ड जारी कर समस्त छूटे हुए प्रवासियों को अच्छादित कराकर वितरण कराया जा सके। साथ ही समस्त उचित दर विक्रेताओं को निर्देशित किया है कि वे आत्मनिर्भर भारत योजनातर्गत चयनित लाभार्थियों को दूरभाष अथवा अन्य माध्यम से सूचित कर उन्हें अनुमन्य आवश्यक वस्तुएं उपलब्ध कराएं।