ALL क्राइम न्यूज स्वास्थ्य घरेलू नुस्खे उत्तर प्रदेश अध्यात्म कोरोना वायरस देश बलिया समाचार दुष्कर्म मनोरंजन
पूर्वोत्तर रेलवे : महिला यात्रियों की सुरक्षा के लिए ‘मेरी सहेली‘ अभियान शुरू
November 9, 2020 • परिवर्तन चक्र

गोरखपुर 09 नवम्बर, 2020: रेल यात्रियों को सुरक्षित एवं संरक्षित उनके गंतव्य तक पहुंचाना रेल प्रशासन की सर्वोच्चतम प्राथमिकता है। ट्रेनों में महिला यात्रियों की सुरक्षा हेतु महत्वपूर्ण संकल्प ‘‘मेरी सहेली‘‘ अभियान के अन्तर्गत भारतीय रेलों में महिला यात्रियों की सुरक्षा हेतु देशव्यापी समर्पित प्रयास किये जा रहे हैं। पूर्वोत्तर रेलवे से प्रारम्भ होने वाली गाड़ियों एवं अन्य प्रमुख स्टेशनों पर महिला यात्रियों विशेषकर अकेली यात्रा कर रही महिला यात्रियों की सुरक्षा के लिए 20 अक्टूबर से ‘मेरी सहेली‘ अभियान प्रारम्भ किया गया, इस अभियान के तहत प्रमुख स्टेशनों पर आर.पी.एफ. की महिला सदस्यों की गठित टीम ट्रेन में यात्रा कर रही महिला यात्रियों विशेषकर अकेली यात्रा कर रही महिला यात्रियों से सम्पर्क कर उन्हें आश्वस्त करती हैं कि वे रेल यात्रा के दौरान पूरी तरह से सुरक्षित हैं। इस अभियान का उद्देश्य महिला यात्रियों में सुरक्षा की भावना जागृत करना है, जिससे वे गन्तव्य तक अपने को सुरक्षित महसूस कर सकें। 

यात्रा के दौरान सुरक्षा सम्बन्धी किसी भी समस्या के निस्तारण हेतु सुरक्षा हेल्प लाइन-182 के बारे में उन्हें कार्ड/पैम्फलेट देकर जागरूक किया जा रहा है। इन कार्ड या पैम्फलेट को महिला यात्रियों को दिये जाने से ट्रेन में यात्रा कर रहे अन्य यात्री भी आर.पी.एफ. की इस कार्रवाई से सतर्क हो जाते हैं कि आर.पी.एफ. की नजर अन्य पर भी है, जिससे वे कोई भी अवांछनीय कार्य करने से डरते हैं। यात्रा के दौरान सुरक्षा हेल्प लाइन 182 डायल करने पर अगले स्टेशन अथवा ट्रेन में चल रहे स्कोर्ट पार्टी के द्वारा तुरन्त सहायता उपलब्ध कराई जाती है।

आधुनिक तकनीक का उपयोग करते हुए प्रारम्भिक स्टेशन पर गूगल शीट में महिला यात्रियों का विवरण दर्ज किया जाता है, जिसके अनुसार यात्रा के दौरान महिला यात्रियों से सम्पर्क कर सुरक्षा हेल्प लाइन के बारे में जागरूक किया जाता है। 

 20 अक्टूबर से 08 नवम्बर, 2020 तक कुल 596 गाड़ियों में 661 महिला आर.पी.एफ. कर्मियों द्वारा 3689 महिला यात्रियों को अटेन्ड किया गया। पूर्वोत्तर रेलवे पर वर्ष 2020-21 में 08 नवम्बर,2020 तक सुरक्षा हेल्प लाइन नम्बर 182 से सुरक्षा सम्बन्धी 121 मामले प्राप्त हुये, जिन पर त्वरित कार्रवाई करते हुये निस्तारित किया गया।