ALL क्राइम न्यूज स्वास्थ्य घरेलू नुस्खे उत्तर प्रदेश अध्यात्म कोरोना वायरस देश बलिया समाचार दुष्कर्म मनोरंजन
मानसून की पहली बारिस में जलमग्न हुई श्रीराम विहार कालोनी की सड़कें
June 17, 2020 • परिवर्तन चक्र

बलिया। नगर की नियोजित बसाव के साथ बसी कालोनियों में श्रीराम विहार कालोनी भी एक प्रमुख कालोनी है। ज्ञयातव्य है गत वर्ष इस कालोनी के बासिंदों को एक माह तक जल जमाव की नारकीय स्थिति भुगतनी पड़ी है। कालोनी की सभी सड़कों पर एक माह तक तीन से पाँच फीट तक जल जमाव हो गया था और घर से निकलना मुश्किल हो गया था। लोग लाँकडाउन की तरह एक माह तक घर में ही कैद रहे और बजबजाती नालियों के सड़न तथा गंध से जीना मुश्किल हो गया था और अनेक बीमारियों से भी लोग त्रस्त एवं तबाह हो गये थे। 

गत वर्ष जल जमाव की समाप्ति के पश्चात कालोनी में पधारे बलिया नगर के चेयरमैन एवं नगरपालिका के अधिशासी अधिकारी ने आकर आश्वासन भी दिया था कि कालोनी की नालियों सहित सड़क को भी ऊँचा किया जायेगा। किंतु साल भर बीत जाने के बाद भी  कोई सुधि नहीं ली गयी और जस की तस स्थिति बरकरार है।

इस वर्ष अभी प्रीमानसूनी वर्षा एवं मानसून की पहले दिन की वर्षा ने ही इस कालोनी में अपना विकराल रूप दिखा दिया है। नालियाँ जाम होकर बजबजा रही हैं, वर्षा का जल नालियों से ऊपर बहकर सड़क पर आ चुका है और सड़क पर पानी लग गया है। आना-जाना मुश्किल होता जा रहा है। इस कालोनी के लोग गतवर्ष की दुर्दशा की कल्पना करके ही सिहर जा रहे हैं और अनायास ही उनके मुख से निकल जा रहा है कि अब तो भगवान ही मालिक हैं।

श्रीराम विहार कालोनी निवासी अमरनाथ मिश्र स्नातकोत्तर महाविद्यालय दूबेछपरा, बलिया के पूर्व प्राचार्य पर्यावरणविद् डा० गणेश कुमार पाठक का कहना है कि इस कालोनी में बड़े शौक से आकर आवास बनाया था कि यहाँ चौड़ी सड़के हैं, चौड़ी नालियाँ हैं, कालोनी में एक पार्क है और इस तरह इस कालोनी का वातावरण शांतिपूर्वक रहने लायक है , किंतु जल जमान ने सारे मंसूबों पर पानी फेर दिया। डा० पाठक का कहना है कि इससे तो उनका पैतृक गाँव नगवा ही रहने लायक बेहतर था।