ALL क्राइम न्यूज स्वास्थ्य घरेलू नुस्खे उत्तर प्रदेश अध्यात्म कोरोना वायरस देश बलिया समाचार दुष्कर्म मनोरंजन
लखनऊ : टेस्ट कराने के बाद गायब हो गए 2290 कोरोना पॉजिटिव मरीज, दिया गलत नाम और एड्रेस
August 3, 2020 • परिवर्तन चक्र

COVID-19 Update : 23 से 31 जुलाई के बीच इन मरीजों की जांच हुई थी. जांच कराने के बाद सभी गायब हो गए. जब प्रशासन ने इनके नाम और पते को खंगाला तो वे फर्जी पाए गए.

लखनऊ. राजधानी लखनऊ (Lucknow) में सैकड़ों कोरोना संक्रमित मरीजों (Corona Positive Patients) ने सरकारी रिकॉर्ड में गलत नाम, पते और मोबाइल नंबर दर्ज कराया और गायब हो गए. इसकी सूची पुलिस की सर्विलांस टीम को सौंपी गई तो 1171 कोरोना पॉजिटिव मरीजों को तलाशा गया, जबकि अभी भी 1119 मरीजों की तलाश जारी है. बताया जा रहा है कि 23 से 31 जुलाई के बीच इन मरीजों की जांच हुई थी. जांच कराने के बाद सभी गायब हो गए. जब प्रशासन ने इनके नाम और पते को खंगाला तो वे फर्जी पाए गए. जिसके बाद इसकी सूची पुलिस को सौंपी गई. अब सर्विलांस टीम इन मरीजों को तलाशने में जुटी है.

पुलिस कमिश्नर ने इन मरीजों की तलाश के लिए कोविड-19 सर्विलांस टीम को जिम्‍मेदारी सौंपी है. अब तक मिले 1171 मरीजों को हॉस्पिटल में एडमिट कराया गया है. अब इनके खिलाफ गलत जानकारी देने के आरोप में कानूनी कार्रवाई भी की जाएगी. पुलिस कमिश्नर सुजीत पांडे के मुताबिक कोरोना संक्रमण की चेन तोड़ने के लिए हजारों की संख्या में जांच की गई. तमाम जगह कैंप लगाकर लोगों की जांच हुई. इस दौरान लोगों ने फॉर्म पर गलत, नाम, पता और मोबाइल नंबर भरा. जांच रिपोर्ट आने के बाद जब इनकी तलाश शुरू हुई तो नाम और पते गलत पाए गए.

70 हजार जुर्माना वसूला

दूसरी तरफ, जिला प्रशासन ने रविवार को कोविड-19 प्रोटोकॉल का उल्लंघन करने पर 189 व्यक्तियों से 70 हजार रुपए का जुर्माना वसूला. जिलाधिकारी अभिषेक प्रकाश ने बताया कि अब तक 7179 लोगों से 27,13,667 रुपए का जुर्माना वसूला जा चुका है.