ALL क्राइम न्यूज स्वास्थ्य घरेलू नुस्खे उत्तर प्रदेश अध्यात्म कोरोना वायरस देश बलिया समाचार दुष्कर्म मनोरंजन
कोरोना वायरस : जानें भारत में क्यों रोक दिया गया ऑक्सफोर्ड वैक्सीन का ट्रायल
September 10, 2020 • परिवर्तन चक्र • कोरोना वायरस

भारत में ऑक्सफोर्ड वैक्सीन के ट्रायल पर फिलहाल के लिए रोक लगा दी गई है

भारत में पुणे स्थित सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया (SII) ने ऑक्सफोर्ड की कोरोना वायरस की वैक्सीन का ट्रायल फिलहाल रोक दिया है. ड्रग कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया से अगला निर्देश आने तक ट्रायल पर रोक रहेगी. सुरक्षा कारणों की वजह से ये ट्रायल रोका गया है.

ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी और एस्ट्राजेनेका पीएलसी की ओर से विकसित की जा रही कोरोना वैक्सीन के ट्रायल के शुरुआती नतीजे काफी उत्साहजनक रहे हैं. हालांकि, ब्रिटेन में एक वॉलन्टियर के बीमार पड़ने के बाद ब्रिटेन और अमेरिका में ट्रायल रोक दिया गया. सीरम इंस्टिट्यूट के सीईओ अदर पूनावाला ने कहा था कि भारत में वैक्सीन के ट्रायल पर इसका कोई असर नहीं पड़ेगा. इसके बाद, ड्रग्स कंट्रोल जनरल ऑफ इंडिया ने सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया को नोटिस जारी कर दिया और सवाल किया था कि सीरम ने DGCI को दूसरे देशों में चल रहे ट्रायल के नतीजों के बारे में जानकारी क्यों नहीं दी.

भारत में ऑक्सफोर्ड की वैक्सीन के दूसरे और तीसरे फेज के ट्रायल 17 जगहों पर चलाए जा रहे हैं. हालांकि, डीसीजीआई के नोटिस मिलने के बाद सीरम इंस्टिट्यूट ने ट्रायल रोकने का फैसला किया है.
ट्रायल के पहले और दूसरे सफल चरण से काफी उम्मीदें बंधी हैं और वैक्सीन के बड़े पैमाने पर उत्पादन के लिए दुनिया भर में कई टाई-अप हुए. तीसरे चरण में वैक्सीन के ट्रायल्स को अमेरिका, ब्राजील, दक्षिण अमेरिका और भारत में विस्तारित किया गया था. सीरम इंस्टिट्यूट ने कहा था कि भारत के साथ-साथ वो कई अन्य देशों को वैक्सीन उपलब्ध कराएगा.

बताया गया है कि ट्रायल के दौरान ब्रिटेन में एक वॉलन्टियर को ट्रांसवर्स मायलाइटिस का पता चला, जो स्पाइनल कॉर्ड को प्रभावित करने वाला एक इंफ्लेमेटरी सिंड्रोम है, इसके लिए वायरल इंफेक्शन जिम्मेदार हो सकता है. कारण का पता लगाने के लिए एक स्वतंत्र जांच की जा रही है. ट्रायल को फिर से शुरू करने का निर्णय मेडिसिन एंड हेल्थकेयर प्रोडक्ट्स रेग्युलेटरी एजेंसी (MHRA) की ओर से लिया जाएगा. 

वैज्ञानिकों के मुताबिक, इस तरह के विराम वैक्सीन ट्रायल्स का ही हिस्सा है. दिल्ली एम्स के एक वैक्सीन एक्सपर्ट ने कहा, “कुछ मौकों पर ऐसा होता है कि वैक्सीन की डोज दिए जाने के दौरान मरीज बीमार हो जाता है या कभी कभी मौत भी हो जाती है. यह एक प्रक्रिया है और ट्रायल्स को रोकने की जरूरत होती है. ट्रायल जांचकर्ता पूरे नैतिक मानदंडों का पालन कर रहे हैं.” 

क्या ट्रायल्स पर विराम से भारत में वैक्सीन के ट्रायल की निरंतरता पर असर पड़ेगा, इस सवाल पर ग्लोबल हेल्थ, बॉयोएथिक्स एंड हेल्थ पॉलिसी के रिसर्चर अनंत भान कहते हैं, “ये निर्भर करता है कि ट्रायल DSMB (डेटा एंड सेफ्टी मॉनिटरिंग बोर्ड) की ओर से क्या सिफारिश की जाती है. 

भान ने कहा, "ये बोर्ड एक घटना पर आधारित डेटा की समीक्षा करेगा और फिर सिफारिश करेगा. इसमें तात्कालिकता को देखते हुए काम होगा. फिर जो फैसला होगा, उसके आधार जारी ट्रायल्स और प्रस्तावित ट्रायल्स पर पड़ने वाले असर को लेकर स्थिति स्पष्ट होगी. उन्होंने जो किया वो वो रिसर्च और क्लिनिकल ट्रायल्स के संदर्भ में सही और अच्छा कदम है.” 

एस्ट्राजेनेका ने कहा है कि इसे लेकर निराश होने की जरूरत नहीं है. इस ट्रायल को रद्द नहीं किया गया है बल्कि सिर्फ कुछ दिनों के लिए रोका गया है. कंपनी के प्रवक्ता ने इसे रूटीन एक्शन बताया है. कंपनी का कहना है कि इस तरह के मामलों की जांच करने के लिए ट्रायल को कुछ दिनों के लिए रोकना पड़ता है.