ALL क्राइम न्यूज स्वास्थ्य घरेलू नुस्खे उत्तर प्रदेश अध्यात्म कोरोना वायरस देश बलिया समाचार दुष्कर्म मनोरंजन
कोरोना वायरस : बुखार व खांसी से छुटकारा पाने के लिए अपनाएं ये घरेलू नुस्खे
September 14, 2020 • परिवर्तन चक्र • घरेलू नुस्खे

वैज्ञानिक मानते हैं कि कोरोना का सबसे पहला लक्षण बुखार और दूसरा लक्षण खांसी है। इतना है नहीं उनका मानना है कि ऐसे लक्षणों को शुरुआत में रोककर बीमारी को बढ़ने से रोका जा सकता है। दरअसल वैज्ञानिकों ने कोरोना वायरस के मरीजों में लक्षण दिखने के संभावित क्रम का पता लगा लिया है। शोधकर्ताओं का कहना है कि कोविड-19 के मरीजों में सबसे पहला संभावित लक्षण बुखार और दूसरा लक्षण खांसी है। यह अध्ययन फ्रंटियर्स इन पब्लिक हेल्थ पत्रिका में प्रकाशित हुआ है।

कोरोना के लक्षणों का क्रम कुछ इस तरह है- 1) बुखार, 2) उसके बाद खांसी, 3) मांसपेशियों में दर्द, 4) मितली, उल्टी और 5) दस्त जैसे लक्षण हैं। प्रमुख शोधकर्ता जोसफ लार्सन ने कहा, ‘लक्षण नजर आने का क्रम मायने रखता है। हर बीमारी अलग तरीके से आगे बढ़ती है और इसका मतलब है कि चिकित्सक जल्द यह पता लगा सकते हैं कि कोई व्यक्ति कोविड-19 से पीड़ित है या फिर उसे कोई अन्य रोग है। इससे वह उपचार संबंधी बेहतर फैसले ले सकते हैं। उनका यह भी मानना है कि लक्षणों का पता चलते ही अगर समय पर इलाज शुरू हो जाए तो बीमारी पर काबू पाने में मदद मिल सकती है।

खांसी को जड़ से ख़त्म करने के घरेलू उपाय

शहद की चाय :

कुछ शोधों के अनुसार, शहद खांसी से राहत दिला सकता है। बच्चों में रात में खांसी के उपचार के लिए यह बेहतर विकल्प है। खांसी के इलाज के लिए शहद का उपयोग करने के लिए आप इसे गर्म पानी या एक हर्बल चाय के साथ 2 चम्मच मिलाकर पी सकते हैं। इस मिश्रण को दिन में एक या दो बार लें। एक साल से कम उम्र के बच्चों को शहद न दें।

वैज्ञानिक मानते हैं कि कोरोना का सबसे पहला लक्षण बुखार और दूसरा लक्षण खांसी है। इतना है नहीं उनका मानना है कि ऐसे लक्षणों को शुरुआत में रोककर बीमारी को बढ़ने से रोका जा सकता है। दरअसल वैज्ञानिकों ने कोरोना वायरस के मरीजों में लक्षण दिखने के संभावित क्रम का पता लगा लिया है। शोधकर्ताओं का कहना है कि कोविड-19 के मरीजों में सबसे पहला संभावित लक्षण बुखार और दूसरा लक्षण खांसी है। यह अध्ययन फ्रंटियर्स इन पब्लिक हेल्थ पत्रिका में प्रकाशित हुआ है।

कोरोना के लक्षणों का क्रम कुछ इस तरह है- 1) बुखार, 2) उसके बाद खांसी, 3) मांसपेशियों में दर्द, 4) मितली, उल्टी और 5) दस्त जैसे लक्षण हैं। प्रमुख शोधकर्ता जोसफ लार्सन ने कहा, ‘लक्षण नजर आने का क्रम मायने रखता है। हर बीमारी अलग तरीके से आगे बढ़ती है और इसका मतलब है कि चिकित्सक जल्द यह पता लगा सकते हैं कि कोई व्यक्ति कोविड-19 से पीड़ित है या फिर उसे कोई अन्य रोग है। इससे वह उपचार संबंधी बेहतर फैसले ले सकते हैं। उनका यह भी मानना है कि लक्षणों का पता चलते ही अगर समय पर इलाज शुरू हो जाए तो बीमारी पर काबू पाने में मदद मिल सकती है।

खांसी को जड़ से ख़त्म करने के घरेलू उपाय

शहद की चाय : कुछ शोधों के अनुसार, शहद खांसी से राहत दिला सकता है। बच्चों में रात में खांसी के उपचार के लिए यह बेहतर विकल्प है। खांसी के इलाज के लिए शहद का उपयोग करने के लिए आप इसे गर्म पानी या एक हर्बल चाय के साथ 2 चम्मच मिलाकर पी सकते हैं। इस मिश्रण को दिन में एक या दो बार लें। एक साल से कम उम्र के बच्चों को शहद न दें।

अदरक : अदरक एक सूखी या दमा खांसी को कम कर सकता है, क्योंकि इसमें एंटी इंफ्लेमेटरी गुण होते हैं। यह मतली और दर्द से भी राहत दिला सकता है। एक अध्ययन से पता चलता है कि अदरक के गुण वायुमार्ग में झिल्ली को आराम देते हैं, जिससे खांसी कम हो सकती है। एक कप गर्म पानी में मिलाकर चाय बना लें। स्वाद में सुधार करने के लिए शहद या नींबू का रस जोड़ सकते हैं।

भाप : भाप लेने से गीली खाँसी, जो कि बलगम या कफ पैदा करती है से राहत मिल सकती है। गर्म स्नान या स्नान करें और बाथरूम को भाप से भरने की अनुमति दें। लक्षणों के कम होने तक कुछ मिनट तक इस भाप में रहें। बाद में ठंडा होने के लिए एक गिलास पानी पियें। वैकल्पिक रूप से एक कटोरे में पानी नीलगिरी या मेंहदी जैसे जड़ी-बूटियों को उसमें मिक्स करें और भाप लें।

मार्शमैलो रूट : मार्शमैलो रूट एक जड़ी बूटी है जिसका खांसी और गले में खराश के इलाज के रूप में उपयोग किया जा सकता है। यह जड़ी बूटी खांसी के कारण होने वाली जलन को कम कर सकती है। यह आम सर्दी और श्वसन पथ के संक्रमण से उत्पन्न खांसी से प्रभावी रूप से राहत देता है। यह एक सूखी जड़ी बूटी या एक टी बैग के रूप में उपलब्ध होती है। नमक के पानी के गरारे यह सरल उपाय गले में खराश और गीली खांसी के इलाज के लिए सबसे प्रभावी है। नमक का पानी गले के पिछले हिस्से में कफ और बलगम को कम करता है जिससे खांसी की जरूरत कम हो सकती है। एक कप गर्म पानी में आधा चम्मच नमक घुलने तक घोलें। घोल को इस्तेमाल करने से पहले थोड़ा ठंडा होने दें। मिश्रण को थूकने से पहले कुछ क्षणों के लिए गले के पीछे बैठें। खांसी में सुधार होने तक हर दिन कई बार नमक के पानी से गरारे करें।