ALL क्राइम न्यूज स्वास्थ्य घरेलू नुस्खे उत्तर प्रदेश अध्यात्म कोरोना वायरस देश बलिया समाचार दुष्कर्म मनोरंजन
कॉन्टैक्ट ट्रेसिंग नहीं की तो कोरोना महामारी पर नहीं पा सकते काबू : WHO
July 21, 2020 • परिवर्तन चक्र

ऑक्सफोर्ड की कोरोना वायरस वैक्सीन के फेज-1 ट्रायल के अच्छे रिजल्ट आने के बाद भी विश्व स्वास्थ्य संगठन ने कहा है कि हमें फिलहाल लोगों की जिंदगी बचानी होगी और इसके लिए हमें किसी वैक्सीन का इंतजार करने की जरूरत नहीं है. विश्व स्वास्थ्य संगठन के प्रमुख टेड्रोस एडहैनम घेब्रियेसुस ने 20 जुलाई को मीडिया को संबोधित करते हुए ये बात कही.

टेड्रोस एडहैनम घेब्रियेसुस ने कहा कि स्थिति कितनी भी बुरी क्यों न हो, हमेशा उम्मीद मौजूद रहती है. मजबूत नेतृत्व, समाज की भागेदारी और व्यापक रणनीति के साथ हम कोरोना संक्रमण को दबा सकते हैं और लोगों की जिंदगी बचा सकते हैं. कोरोना महामारी को रोका जा सकता है.

विश्व स्वास्थ्य संगठन के प्रमुख टेड्रोस एडहैनम घेब्रियेसुस ने कहा है कि कोई भी देश महामारी पर काबू नहीं पा सकता अगर वह नहीं जानता कि वायरस कहां पर मौजूद है. मामलों को पहचानने, आइसोलेट करने और उनके कॉन्टैक्ट तलाशने और उन्हें क्वारनटीन करने के लिए कॉन्टैक्ट ट्रेसिंग जरूरी है.

WHO ने कहा कि मोबाइल ऐप से कॉन्टैक्ट ट्रेसिंग में मदद मिल सकती है, लेकिन वह जमीन पर काम करने वाले प्रशिक्षित लोगों का विकल्प नहीं हो सकता जो घर-घर जाकर केस ढूंढ़ते हैं और उनके कॉन्टैक्ट्स की पहचान करते हैं. इससे संक्रमण की चेन तोड़ने में मदद मिलती है.

विश्व स्वास्थ्य संगठन का कहना है कि हर स्थिति में, हर देश के लिए कॉन्टैक्ट ट्रेसिंग जरूरी है. एक मामले के क्लस्टर में तब्दील होने से कॉन्टैक्ट ट्रेसिंग रोकता है, नहीं तो कम्युनिटी ट्रांसमिशन हो सकता है.

WHO प्रमुख ने कहा है कि जिन देशों में कम्युनिटी ट्रांसमिशन हो रहा है वह अपने यहां महामारी को कई हिस्सों में बांटकर उस पर नियंत्रण कर सकता है. जब तमाम देश में लॉकडाउन हटाए जा रहे हैं तो यह काफी जरूरी हो गया है.

हालांकि, WHO ने कहा कि कोरोना को रोकने के लिए सिर्फ कॉन्टैक्ट ट्रेसिंग ही टूल नहीं है. लेकिन व्यापक रणनीति में इसे शामिल किया जाना चाहिए और यह सबसे जरूरी है. WHO ने कहा कि स्मॉलपॉक्स से लेकर पोलियो, इबोला और कोरोना तक, कॉन्टैक्ट ट्रेसिंग काफी कारगर साबित हुआ है.

WHO ने कहा कि डेमोक्रेटिक रिपब्लिक ऑफ कॉन्गो में पिछले महीने इबोला खत्म हो गया. लेकिन इससे हम ये सीख सकते हैं कि सबसे मुश्किल वक्त में और सुरक्षा की समस्याओं के साथ भी हम कॉन्टैक्ट ट्रेसिंग कर सकते हैं. पिछले साल जब यहां इबोला के मामले सामने आए थे तो एक्सपर्ट्स ने चिंता जताई थी कि क्या हम इस पर काबू हासिल कर सकेंगे.