ALL क्राइम न्यूज स्वास्थ्य घरेलू नुस्खे उत्तर प्रदेश अध्यात्म कोरोना वायरस देश बलिया समाचार दुष्कर्म मनोरंजन
जन धन योजना के तहत बिना दस्तावेजों के खुलेगा 'छोटा खाता', जानें-नियम और फायदे
September 14, 2020 • परिवर्तन चक्र

जन धन योजना के तहत खुले स्मॉल अकाउंट में आप साल भर में अधिकतम 1 लाख रुपये ही जमा कर सकते हैं। यह लिमिट वन टाइम के लिए नहीं है बल्कि पूरे साल भर में ही इतनी रकम जमा करने की सीमा है।

प्रधानमंत्री जनधन योजना के तहत अब तक देश भर में 40 करोड़ से ज्यादा खाते खुल चुके हैं। यदि आपका किसी भी बैंक में कोई खाता नहीं है तो आप भी इस स्कीम से बेहद आसानी से जुड़ सकते हैं। यही नहीं यदि आपके पास फिलहाल दस्तावेजों की कमी है तो फिर इस स्कीम के छोटा खाता खुलवाकर भी आप जुड़ सकते हैं। जन धन योजना के तहत स्मॉल अकाउंट की अवधि 12 महीने की होती है और इस दौरान आपको दस्तावेज जमा करने होते हैं। आप जैसे ही दस्तावेजों को जमा करा देंगे आपका खाता स्मॉल अकाउंट से जीरो बैलेंस अकाउंट में तब्दील हो जाएगा।

आइए जानते हैं, क्या हैं स्मॉल अकाउंट के नियम और फायदे…

– जन धन योजना के तहत खुले स्मॉल अकाउंट में आप साल भर में अधिकतम 1 लाख रुपये ही जमा कर सकते हैं। यह लिमिट वन टाइम के लिए नहीं है बल्कि पूरे साल भर में ही इतनी रकम जमा करने की सीमा है। यही नहीं किसी भी समय इस बैंक खाते में 50,000 रुपये से अधिक रकम जमा नहीं की जा सकती।

– यही नहीं इस बैंक खाते में जमा रकम से महीने में 10,000 रुपये से ज्यादा की निकासी नहीं की जा सकती। हालांकि यदि सरकार की ओर से कोई सब्सिडी या फिर पीएम किसान स्कीम जैसी किसी योजना की रकम ट्रांसफर की जाती है तो उसे जमा रकम की अधिकतम सीमा के तहत नहीं जोड़ा जाएगा।

– अब अहम सवाल यह है कि यदि आप छोटे खाते को जन धन योजना के जीरो बैलेंस अकाउंट में ट्रांसफर कराना चाहते हैं तो क्या करना होगा। इसके लिए आपको Know Your Customer यानी केवाईसी के तहत जरूरी दस्तावेज जमा करने होंगे और फिर आपका खाता जीरो बैलेंस अकाउंट हो जाएगा।

– छोटा खाता खुलवाने के लिए आपको सिर्फ अपने दो सेल्फ अटेस्टेड फोटो देने की जरूरत है। आपके अपने किसी भी नजदीकी बैंक में जाकर यह अकाउंट खुलवा सकते हैं। यही नहीं आपके इस खाते में किसी भी सरकारी योजना की राशि या फिर किसी स्कीम की सब्सिडी भी जारी की जाएगी।

गौरतलब है कि देश भर में 40 करोड़ से ज्यादा लोग जन धन योजना के तहत जुड़ चुके हैं और इन खातों में 1,29,929 करोड़ रुपये से ज्यादा की रकम जमा है। बता दें कि मोदी सरकार ने 2015 में इस स्कीम की लॉन्चिंग की थी ताकि देश के हर परिवार को बैंकिंग सिस्टम से जोड़ा जा सके। इसके चलते सरकारी योजनाओं का लाभ सीधे लाभार्थियों तक पहुंचाना आसान हुआ है। इसके अलावा गरीब तबके के लोग भी बैंकिंग सिस्टम का हिस्सा बने हैं। हाल ही में लॉकडाउन की अवधि के दौरान सरकार ने अप्रैल से जून तक जन धन योजना की खाता धारक महिलाओं के खाते में प्रति माह 500 रुपये जमा किए थे।