ALL क्राइम न्यूज स्वास्थ्य घरेलू नुस्खे उत्तर प्रदेश अध्यात्म कोरोना वायरस देश बलिया समाचार दुष्कर्म मनोरंजन
जानें डायबिटीज के मरीजों के लिए क्यों फायदेमंद है मूंगफली
August 29, 2020 • परिवर्तन चक्र

Peanuts Benefits for Health : डायबिटीज के मरीजों को डॉक्टर्स कम ग्लाइसेमिक इंडेक्स यानी GI वाले भोजन खाने की सलाह देते हैं, मूंगफली का ग्लाइसेमिक इंडेक्स भी कम होता है

Tips to control Diabetes : खराब जीवन शैली के कारण होने वाली बीमारियों में डायबिटीज सबसे खतरनाक रोगों में से एक है। शरीर में पैन्क्रियाज इंसुलिन बनाने का कार्य करता है। ये हार्मोन खाने में मौजूद ग्लूकोज और शुगर को सीमित मात्रा में हमारे शरीर में पहुंचाता है। वहीं, अगर बॉडी में इंसुलिन कम मात्रा में बनने लगती है तो इससे डायबिटीज का खतरा बढ़ जाता है। ये बीमारी अधिक परेशान इसलिए करती है क्योंकि डायबिटीज को जड़ से खत्म करना लगभग नामुमकिन सा ही है। इसे कंट्रोल करने के लिए दवाइयों के साथ ही स्वस्थ आहार लेना भी बहुत जरूरी है। ऐसे में ब्लड शुगर को नियंत्रित रखने के लिए मरीज मूंगफली का सेवन कर सकते हैं –

पोषक तत्वों का खजाना है मूंगफली : मूंगफली में भरपूर मात्रा में फाइबर, प्रोटीन, गुड फैट्स और अल्फा लिपोइक एसिड मौजूद होते हैं। ये सभी तत्व डायबिटीज टाइप 2 के मरीजों के लिए जरूरी हैं। ऐसे में मरीजों के लिए मूंगफली का सेवन लाभप्रद हो सकता है।

फाइबर है फायदेमंद : डायबिटीज के मरीजों का पाचन ठीक रहे, इसके लिए फाइबरयुक्त खाना जरूरी है। बता दें कि फाइबर युक्त खाद्य पदार्थों को डाइट में शामिल करने से शरीर की पाचन प्रणाली चुस्त-दुरुस्त रहती है। साथ ही, इंटेस्टाइन यानी आंतें भी मजबूत रहती हैं। डायबिटीज के मरीजों में ब्लड शुगर को काबू में रखने में ये फाइबरस फूड महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। एक शोध के अनुसार फाइबर युक्त खाद्य पदार्थ पचाने में आसान व रक्त शर्करा यानी ब्लड शुगर को नियंत्रित करने में भी सक्षम होते हैं।

कम होता है ग्लाइसेमिक इंडेक्स : डायबिटीज के मरीजों को डॉक्टर्स कम ग्लाइसेमिक इंडेक्स यानी GI वाले भोजन खाने की सलाह देते हैं। इससे ब्लड शुगर कंट्रोल करने में मदद मिलती है। मूंगफली का ग्लाइसेमिक इंडेक्स भी कम होता है, ऐसे में बार-बार होने वाली फूड क्रेविंग को दूर करने के लिए मूंगफली बेहतर विकल्प हो सकता है।

इन तरीकों से डाइट में करें शामिल : मूंगफली को लोग कई तरह से अपने आहार में शामिल कर सकते हैं। नाश्ते में बनने वाले पोहे से लेकर चटनी, चाट और पीनट बटर का सेवन कर सकते हैं। इसके अलावा, मूंगफली के दानों को ड्राई रोस्ट कर उसमें काला नमक और चाट मसाला मिलाकर भी खा सकते हैं।