ALL ताजा खबरें राष्ट्रीय समाचार परिवर्तन चक्र स्पेशल शिक्षा समाचार दुनिया समाचार क्रिकेट समाचार मनोरंजन समाचार पॉलिटिक्स समाचार क्राइम समाचार साहित्य संग्रह
गुजरात में कोरोना वायरस से ठीक होने के बाद अचानक क्यों मर रहे हैं लोग?
July 27, 2020 • परिवर्तन चक्र

पद्मश्री डॉक्टर तेजस पटेल का कहना हैं कि कोरोना की वजह से फेफड़ों में ब्लड क्लॉट होता है, जिसका असर इंसान के शरीर पर लंबे वक्त तक रहता है. कई मामलों में कोमोरबिड होने की वजह से हाइपर इंफ्लामेटरी फंड हाइपर क्लोटिंग पर कोरोना का असर होता है.

कोरोना से ठीक होकर अस्पताल से घर जाने के दौरान मौत

कोरोना मरीजों को दिल की बीमारियों का बढ़ रहा खतरा

हाल ही में ऐसा ही एक मामला सूरत में सामने आया, जिसमें सूरत म्युनिसिपल कॉर्पोरेशन द्वारा संचालित सीमर अस्पताल में इलाज के बाद एक 70 वर्षीय महिला को छुट्टी दे दी गई थी. उसकी कोरोना जांच की रिपोर्ट भी निगेटिव आ चुकी थी, लेकिन घर पहुंचने से पहले ही उसकी मौत हो गई.

इस घटना से मृतक का परिवार सदमे में है. डॉक्टर भी इस महिला की मौत से हैरान हैं. इसके अलावा अहमदाबाद में भी ऐसा मामला कुछ दिन पहले सामने आया था, जिसमें अस्पताल से ठीक होकर घर जा रहे एक शख्स की रास्ते में मौत हो गई थी. उसकी लाश बस स्टैंड से बरामद हुई थी.

मृतक के परिजनों ने बताया कि उनकी कोरोना जांच की रिपोर्ट पॉजिटिव आई थी, जिसके बाद उनको अस्पताल में भर्ती कराया गया था. जब वो अस्पताल से ठीक होकर घर जा रहे थे, तभी रास्ते में उनकी मौत हो गई थी.

इसके अतिरिक्त सूरत के एक डॉक्टर की भी मौत कुछ ऐसे ही हुई. वो कोरोना से ठीक हो चुके थे और उनकी जांच रिपोर्ट निगेटिव आ चुकी थी, लेकिन अचानक दिल का दौरा पड़ने से उनकी मौत हो गई.

कोरोना से जंग जीतने के बाद क्यों हो रही मौत

गुजरात में कोरोना वायरस के अब तक 50 हजार से ज्यादा मामले सामने आ चुके हैं, लेकिन कोरोना से ठीक होने के बाद मौत की घटना डॉक्टरों के लिए भी नई है. गुजरात सरकार द्वारा कोरोना से निपटने के लिए बनाई गई एक्सपर्ट डॉक्टरों की टास्क फ़ोर्स के सदस्य और पद्मश्री डॉक्टर तेजस पटेल का कहना हैं कि कोरोना की वजह से फेफड़ों में ब्लड क्लॉट होता है, जिसका असर इंसान के शरीर पर लंबे वक्त तक रहता है. कई मामलों में कोमोरबिड होने की वजह से हाइपर इंफ्लामेटरी फंड हाइपर क्लोटिंग पर कोरोना का असर होता है.

डॉ. तेजस पटेल का कहना है कि क्लोटिंग का असर कोरोना मरीज़ पर ठीक होने के एक दिन से लेकर 45 दिन तक रहता है, जिन मरीजों पर कोरोना का असर ज्यादा होता है, उनको ब्लड थीनर के इन्जेक्शन दिए जाते हैं, ताकि मरीज हार्ट अटैक, ब्रेन स्टोक से बच सकें. गुजरात में कोरोना से ठीक होने के बाद जिन मामलों में मरीजों की मौत हुई, उनमें प्रमुख वजह दिल का दौरा और ब्रेन स्टॉक हैं.

साभारः आजतक