ALL क्राइम न्यूज स्वास्थ्य घरेलू नुस्खे उत्तर प्रदेश अध्यात्म कोरोना वायरस देश बलिया समाचार दुष्कर्म मनोरंजन
दो अक्टूबर से शुरू होगा बहुउद्देश्यीय गंगा यात्रा कार्यक्रम
September 30, 2020 • परिवर्तन चक्र • बलिया समाचार
 
जिला गंगा समिति की बैठक में तय हुई तीन दिवसीय कार्यक्रम की रूपरेखा
 
बाढ़ खण्ड, जल निगम, वन विभाग समेत कुछ अन्य विभाग रहेंगे साथ
 
एनसीसी, स्कॉउट व एनवाईके द्वारा किनारे के 6 गांवों में होगा जागरूकता कार्यक्रम
 
बलिया। जिले स्तर पर गंगा यात्रा का एक बहुउद्देश्यीय कार्यक्रम 2 अक्टूबर से शुरू होगा। कोरंटाडीह से शुरू होने वाली इस तीन दिन की यात्रा का समापन जयप्रकाश नारायण ट्रस्ट पर होगा। इसमें वन विभाग, जल निगम, बाढ़ खण्ड व गंगा से जुड़े अधिकारी रहेंगे। इस भ्रमण के दौरान किनारे के गांवों में अल्प विश्राम भी होगा। नेहरू युवा केन्द्र, स्कॉउट गाईड, एनसीसी के कैडेट भी रहेंगे, जो आवश्यकतानुसार जागरूकता कार्यक्रम करते रहेंगे। बैठक में गंगा समिति के सदस्यों के साथ कार्यक्रम की उपयोगिता बढ़ाने पर चर्चा हुई। 
 
जिलाधिकारी श्रीहरि प्रताप शाही ने जल निगम के अभियंता को निर्देश दिया कि भ्रमण के दौरान जगह-जगह गंगा के पानी का सैंपल भी लेना है। जहां पर नाले गिरते हैं विशेष तौर पर वहां के सैंपल अवश्य लिए जाएं। बाढ़ इलाकों व जरूरतमंद इलाकों में नए तटबंधों के लिए भी सर्वे का कार्य होगा। पंचायती राज विभाग द्वारा किनारे के गांवों में कार्यक्रम आयोजित होगा जिसमें सरकार के विभिन्न कल्याणकारी व लाभकारी योजनाओं की जानकारी दी जाएगी। स्वास्थ्य शिविर का भी आयोजन होगा। उन्होंने बताया कि गंगा किनारे की 41 ग्राम पंचायतों में 6 ग्राम पंचायत में भ्रमण कर विकास व गंगा संरक्षण से जुड़े कार्य का निरीक्षण होगा। 
 
स्वच्छता व पॉलीथिन के खिलाफ जनजागरूकता पर रहेगा फोकस
 
मुख्य विकास अधिकारी विपिन कुमार जैन ने कहा कि गंगा यात्रा के दौरान पूरा फोकस पॉलीथिन का प्रयोग नहीं करने व स्वच्छता से सम्बंधित जनजागरूकता पर होगा। नेहरू युवा केन्द्र के माध्यम से नुक्कड़ नाटक या रैली के जरिए यह जागरूकता फैलाई जाएगी। उन्होंने जरूरी तैयारी करने के लिए किनारे के गांवों के सम्बंधित सभी एडीओ पंचायत को निर्देशित किया। बैठक में डीएफओ श्रद्धा, एडीएम रामआसरे, एसडीएम सदर राजेश यादव, डीआईओएस भास्कर मिश्र के अलावा भौगोलिक जानकार गणेश पाठक व गंगा समिति के सदस्य मौजूद थे।