ALL क्राइम न्यूज स्वास्थ्य घरेलू नुस्खे उत्तर प्रदेश अध्यात्म कोरोना वायरस देश बलिया समाचार दुष्कर्म मनोरंजन
दिया-बाती : आशीष के एकल नाटक 'सुगना' ने भर दी सबकी आंखें
November 11, 2020 • परिवर्तन चक्र • बलिया समाचार

लोकगीत गायिका सुनीता पाठक ने पारंपरिक गीतों से लूटी महफ़िल

बलिया। दीया-बाती प्रदर्शनी के दूसरे दिन मंगलवार की देर शाम रंगकर्मी आशीष त्रिवेदी ने कोरोना में प्रवासी मजदूरों की दर्द भरी कहानी को एकल नाटक 'सुगना' के माध्यम से दिखाया। बेहद मार्मिक नाटक को देख ऐसा लग रहा था, मानो कोरोना शुरू होने के बाद प्रवासियों के पैदल अपने गांव जाने की पूरी दास्तान सामने दिखाई दे रही हो। 

आशीष के एकल नाटक को देख वहां मौजूद अधिकारियों व उनकी पत्नियों समेत अन्य लोगों की आंखें भर आईं। आशीष के अद्भुत अभिनय पर भावुक हुए जिलाधिकारी ने विशेष धन्यवाद दिया। वहीं सीडीओ विपिन जैन, सीआरओ विवेक श्रीवास्तव, एसडीएम सदर राजेश यादव, डिप्टी कलेक्टर सर्वेश यादव समेत अन्य अधिकारियों व आम लोगों ने भी आशीष को जमकर तालियां समर्पित की। प्रदर्शनी के दूसरे दिन शाम को सांस्कृतिक कार्यक्रम में गायक बंटी वर्मा व लोकगीत गायिका सुनीता पाठक ने पारंपरिक गीतों से पूरी महफ़िल लूट ली। भक्ति गीत से शुरू हुआ कार्यक्रम जब पारंपरिक गीतों की तरफ गया तो सभी प्रबुद्ध लोगों ने बड़े चाव से गीत-संगीत का आनंद लिया। बंटी वर्मा ने अपने गीत से गांव-गिरांव, संस्कृति -सभ्यता की पुरानी याद ताजा कर दी। वहीं सुनीता पाठक ने बेटी बढ़ाओ बढाओ पर आधारित गीत की भी प्रस्तुति दी। इसके अलावा 'चूड़ी हमरा अइह चुड़िहरवा' ने खास तौर पर महिलाओं को गांव में चूड़ी पहनने के विशेष मौकों की याद ताजा कर दी। दस वर्षीय बालिका अनन्या पांडेय ने छठ गीत सुनाकर सबकी तालिया बटोरी।