ALL क्राइम न्यूज स्वास्थ्य घरेलू नुस्खे उत्तर प्रदेश अध्यात्म कोरोना वायरस देश बलिया समाचार दुष्कर्म मनोरंजन
बलिया : निजीकरण नहीं रोका गया तो होगा जेल भरों आन्दोलन
October 3, 2020 • परिवर्तन चक्र

 

विद्युत कर्मचारी संयुक्त संघर्ष समिति द्वारा 6वें दिन भी जारी रहा कार्य बहिष्कार व धरना

बलिया। विद्युत कर्मचारी संयुक्त संघर्ष समिति के बैनर तले निजीकरण के विरोध में चलाए जा रहे धरना आन्दोलन प्रदर्शन के कार्यक्रम के अगले चरण के 6 वें दिन अपराह्न 02 बजे से 05 बजे तक कार्य बहिष्कार और विरोध सभा कार्यक्रम का विपीन बिहारी राय की अध्यक्षता में, विद्युत वितरण मण्डल बलिया कार्यालय पर प्रारम्भ किया गया।

सभा को सम्बोधित करते हुए बिपीन बिहारी ने कर्मचारियों की उपस्थिति देख कर हर्ष के साथ सम्बोधित करते हुए कहा कि अब हमारी विजय सुनिश्चित है क्योकि भारी संख्या में जब हमारे साथी इसी तरह विरोध आन्दोलन चलायेगे तो सरकार को झुकना ही पडे़गा। श्री बी0बी0 सिंह, संयोजक वि0क0सं0सं0स0 बलिया ने सभा को सम्बोधित करते हुए कहा कि इसी प्रकार 05 अक्टूबर को पूरे दिन पूर्ण कार्य बहिश्कार में हमारे सभी कर्मचारी एवं संविदा कार्मिक जनपद मुख्यालय पर उपस्थित होकर कार्य बहिश्कार सुनिष्चित करेगें जिसके लिए आप सभी सार्थी गण प्रतिबद्ध होगें। बिजली विभाग के निजीकरण का मतलब देष की आम जनता तथा उनकी बच्चों के साथ खिलवाड़ करना है। निजीकरण नहीं रोका गया तो जेल भरों आन्दोलन होगा तथा उन्होंने आम जनता से अपील किया की देश गुलामी की ओर जा रहा है।

निजीकरण हो जाने से पूरे प्रदेष में बिजली का दर वर्तमान दर से कई गुणा बढ़ जायेगा। प्रदेष के उपकेन्द्रों कार्यालयों के लिए प्रयोग की जा रही सरकारी भूमी का अस्तित्व क्या रहेगा क्या सरकार सस्ती बिजली दे पायेगी, गरीबी रेखा से नीचे वालों के घरों में रोषनी हो पायेगी। यह कौन आष्वस्त करेगा।

निजीकरण विकल्प नहीं सुधार की जरूरत है। प्रबन्धन को मजबूत करने की जरूरत हैं। भ्रश्ट योजनाओं पर रोक लगाकर अनुरक्षण में लगाये जा रहे आउटसोर्स के कर्मचारियों की संख्या मानक की जांच करायी जाए। आउटसोर्स को समाप्त कर कार्यरत कर्मियों को स्थायी नियुक्ति कर प्रबन्धन को मजबूत किया जाए अन्यथा की स्थिति में हमेषा विभिन्न समस्याओं से जनता, किसान, मजदूर, कर्मचारीयों को झेलना पड़ेगा। ऐसी स्थिति में सरकार हटधर्मी करती है तो आनदोलन स्वभाविक है।

धरना स्थल पर मुख्य रूप से ई0 अजय कुमार गौतम, ई0 आ0पी0 सिंह, ई0 एस0के0 मिश्रा, ई0 हरिओम गुप्ता , ई0 विरेन्द्र यादव, ई0 बी0बी0 राय, ई0 विजय विक्रम सिंह, ई0 मनोज कुमार, ई0 सतेन्द्र कुमार, ई0 राम बाबू, ई0 श्याम अवध यादव अध्यक्ष, ई0 रतन लाल चौहान, ई0 दिनेश कुमार अधिशासी अभियन्ता, अजीत प्रताप सिंह, सहदेव चौबे, प्रमोद कुमार राय, दिनेश कुमार सिंह, देवेन्द्र प्रताप सिंह, राजेश कुमार, रमेश कुमार, सत्य प्रकाश सिंह, ओम प्रकाश यादव, तूफानी यादव, नगीना राम, बिमलेश कुमार, संजीव कुमार, सुधीर सिंह, सुनिल सिंह, दुर्गादत सिंह, विरेन्द्र सिंह, ओम प्रकाश यादव, अजीत कुमार, छोटे लाल, हृदयनरायण मण्डल, संतोष सिंह, श्री रमाशकर पाण्डेय, जय प्रकाश यादव, श्रवण कुमार, सूरज कुमार, श्री किसुन, प्रेमनरायण पाण्डेय, के0के0 पाण्डेय, शमसुदीन, रामकेर यादव, श्रीकिसुन, अशोक कुमार, विरेन्द्र सिंह, जय प्रकाश सिंह, अरविन्द सिंह, जितेन्द्र कुमार यादव ने सहभागिता किया। संचालन संतोष कुमार सिंह ने किया।