ALL क्राइम न्यूज स्वास्थ्य घरेलू नुस्खे उत्तर प्रदेश अध्यात्म कोरोना वायरस देश बलिया समाचार दुष्कर्म मनोरंजन
बलिया : गांधी जयंती पर बहुउद्देश्यीय गंगा यात्रा की हुई शुरुआत
October 2, 2020 • परिवर्तन चक्र • बलिया समाचार
 
खेल मंत्री उपेंद्र तिवारी संग पूरा प्रशासनिक अमला रहा साथ
 
गंगा की मूलभूत समस्याओं को नजदीक से देखा जा सकेगा : मंत्री
 
सैंपलिंग व सर्वे करते रहे जल निगम, सिंचाई व बाढ़ खण्ड के अधिकारी
 
बलिया। गांधी जयंती के अवसर पर बहुउद्देश्यीय गंगा यात्रा की शुरुआत शुक्रवार को कोरंटाडीह के गंगा तट से हुई। इसमें राज्यमंत्री (स्वतंत्र प्रभार) उपेंद्र तिवारी, जिलाधिकारी एसपी शाही, सीडीओ विपिन जैन, डीएफओ श्रद्धा, एनडीआरएफ इंस्पेक्टर अनिल शर्मा समेत जिला गंगा समिति की पूरी टीम व गंगा किनारे ग्राम पंचायतों के ग्राम प्रधान भी थे। यात्रा की शुरुआत से पहले गंगा की समस्याओं और उसके समाधान पर चर्चा की गई। इससे पहले सभी अतिथियों ने गांधी के चित्र पर पुष्प अर्पित किया। फिर इंटरमीडिएट कॉलेज भरौली की छात्राओं ने रामधुन के गायन कर गांधी जी को याद किया। 
 
कोरंटाडीह डाकबंगले पर आयोजित कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुए खेल मंत्री उपेंद्र तिवारी ने सबसे पहले उपस्थित सभी को गांधी जयंती की बधाई दी। उन्होंने कहा कि जिला प्रशासन ने गंगा यात्रा की तीन दिवसीय यात्रा का कार्यक्रम किया, जो कि सराहनीय है। निश्चित रूप से इस यात्रा के माध्यम से गंगा की मूलभूत समस्याओं को नजदीक से देखा जा सकेगा। कहा, गंगा को स्वच्छ रखने के लिए सबको एक होकर प्रयास करना होगा। प्रण कर लें कि गंगा को जब मां कहा है तो उसमें पॉलीथिन या कोई भी कचड़ा नहीं डालेंगे। उन्होंने आवाह्न किया कि हर कोई स्वच्छता के लिए अपना आधा घण्टा समय प्रतिदिन दें, तो आसानी से स्वच्छ भारत के सपने को साकार कर सकते हैं। अंत में उन्होंने गांधी जी के व्यक्तित्व व कृतित्व पर प्रकाश डालते हुए उसे सभी को अपने जीवन में उतारने पर बल दिया। 
 
जिलाधिकारी श्री शाही ने कहा कि गांधी जयंती के राष्ट्रीय पर्व के अवसर पर गंगा यात्रा की शुरुआत की गई है। गंगा करीब 50 ग्राम पंचायतों की 120 किमी की दूरी से होकर गुजरती है। स्वच्छता व गंगा दोनों को जोड़कर यह कार्यक्रम रखा गया है। गांधी जी का भी सपना स्वच्छता था और इस कार्यक्रम का भी यही उद्देश्य है। इसमें ग्राम स्तर से अधिक सहयोग की जरूरत है। इस मौके पर एसडीएम सदर राजेश यादव, डिप्टी कलेक्टर सर्वेश यादव, तहसीलदार गुलाब चंद्रा, नायब तहसीलदार अजय सिंह, थानाध्यक्ष नरहीं ज्ञानेश्वर मिश्रा, ईओ दिनेश विश्वकर्मा, भौगोलिक जानकार गणेश पाठक, कला शिक्षक इफ्तेखार खां, पंचायती राज के शैलेश ओझा व इसरार अहमद, आपदा विभाग की ओर से एनडीआरएफ इंस्पेक्टर अनिल शर्मा व पीयूष थे।
 
जल निगम ने जगह-जगह लिया पानी का सैम्पल
 
यात्रा के दौरान जल निगम, सिचाई व बाढ़ खण्ड के अलावा अन्य कई विभाग के अधिकारी भी थे, जिनको उनसे सम्बन्धित समस्याओं को नजदीक से दिखाया गया। वहीं, जल निगम के इंजीनियरों की टीम ने एनडीआरएफ की बोट के सहयोग से जगह-जगह पानी का सैम्पल लिया। खास कर उन जगहों का सैम्पल लिया गया, जहां कोई नाला आकर गिरता है। 
 
बाढ़ व सिंचाई एक्सईएन को नोट कराते रहे समस्या
 
यात्रा के दौरान कोरंटाडीह डाकबंगले के पास कटान की समस्या को नजदीक से दिखाया गया। राज्यमंत्री व डीएम ने बाढ़ खण्ड के एक्सईएन को निर्देश दिया कि इनको ध्यान से देख लें और मजबूती से बचाव कार्य कराएं। इस ऐतिहासिक स्थल पर कोई खतरा नहीं आना चाहिए। कोरण्टाडीह पंप कैनाल से जुड़ी समस्याओं के सम्बंध में सिचाई एक्सईएन को बताया गया और कैनाल को दुरुस्त कराने के निर्देश दिए गए।