ALL क्राइम न्यूज स्वास्थ्य घरेलू नुस्खे उत्तर प्रदेश अध्यात्म कोरोना वायरस देश बलिया समाचार दुष्कर्म मनोरंजन
बलिया : आज भी गरीब, दलित, पिछड़े, शोषितो के लिए मसीहा है मुलायम सिंह : रामगोविंद चौधरी
November 22, 2020 • परिवर्तन चक्र • बलिया समाचार

धूमधाम से मनाया गया मुलायम सिंह यादव का 82 वॉ जन्मदिन

बलिया। समाजवादी पार्टी के संस्थापक धरती पुत्र मुलायम सिंह यादव का 82 वॉ जन्मदिन समाजवादी पार्टी के जनपदीय कार्यालय में धूम-धाम से मनाया गया। इस अवसर पर सपाजनों ने उनके व्यक्तित्व व कृतित्व पर प्रकाश डालते हुए 51 किलो का केक भी काटा। 

कार्यक्रम को नेता प्रतिपक्ष रामगोविंद चौधरी ने मुख्य वक्ता के रूप में सम्बोधित करते हुए कहा कि देश के महान विभूति डॉ0 लोहिया, आचार्य कृपलानी, विनोवा भावे तथा जयप्रकाश नारायण के बाद एक मात्र मुलायम सिंह यादव जी ही एक ऐसा नेता है समाजवादी विचार धारा का देश ही नही वरन दुनिया में ध्वज वाहक है।

मुलायम सिंह यादव जी आज भी गरीब, दलित, पिछड़े, शोषितो और जन -जन के लिए मसीहा है। देश के इस महानतम नेता के लिये आज भी करोड़ो लोगों के लिये श्रद्धा और प्रेम है, सभी लोग उनके लम्बे उम्र की कामना करते है। प्रतिपक्ष नेता श्री चौधरी ने उपस्थित सपा कार्यकर्ताओं का आह्वान करते हुए कहा कि शिक्षक व स्नातक एमएलसी के चुनाव में आप अपनी पूरी ताकत झोंक दे और पार्टी को भारी मतों से विजयी बनावें।

कार्यक्रम के मुख्य अतिथि पूर्व जिलाध्यक्ष यशपाल ने कहा कि देश व समाज का बिकास समाजवादी विचार धारा से ही सम्भव है। उन्होंने समाजवाद पर चर्चा करते कहा कि समाजवादी कभी जातिवादी नही हो सकता और जातिवादी कभी समाजवादी नही हो सकता।

विशिष्ट अतिथि पूर्व मंत्री सनातन पाण्डेय ने कहा कि मुलायम सिंह यादव के व्यतित्व व कृतित्व पर जितना भी प्रकाश डाला जाय वह कम है।

कार्यक्रम की अध्यक्षता कर रहे जिलाध्यक्ष राजमंगल यादव ने कहा मा0 मुलायम सिंह का नाम भले ही मुलायम हो परन्तु देश की रक्षा के प्रति उनकी कठोरता का प्रमाण तब देखने को मिला जब वे रक्षामंत्री थे और सीमा पर बमबारी के बीच लाख मना करने पर भी वे सैनिकों के बीच उत्साह वर्धन करने पहुँच गये।

कार्यक्रम में मुख्य रूप से पूर्व विधायक मंजू सिंह, सुबाष यादव, पूर्व जिलाध्यक्ष डॉ0 विश्राम सिंह यादव, डॉ0 राजेन्द्र राजभर, रामजी गुप्ता, पूर्व चेयरमैन लक्षमण गुप्ता, संजय उपाध्याय, वंशीधर यादव, सूर्यभान सिंह, मृत्युंजय तिवारी, मतलूब अख्तर, हीरालाल वर्मा, रविन्द्र नाथ यादव, शैलेश सिंह, जमाल आलम, कुबेर नाथ तिवारी, ओमप्रकाश यादव, जयप्रकाश यादव, सुबाष यादव, प्रभुनाथ यादव, झब्बू मिश्रा, अनिकेत साहनी, आशुतोष ओझा, बीरबल राम ,रामजी राजभर, हाजी नुरुल, रामेश्वर पासवान, अकमल नईम, राजेश गोड़, भीम प्रसाद, कृपाशंकर यादव, मिंटू खान, सुनील पासवान, जुबेर सोनू, अजय यादव, रामजी यादव, विजय शंकर यादव, हरेन्द्र सिंह, दिनेश यादव, राजप्रताप यादव, मनन दुबे, रोहित चौबे, दिवान सिंह, श्रीकांत गिरि, परवेज रौशन, सूर्यकांत, शाहिद, शामू ठाकुर, बीरबल यादव, राम भरोसे यादव, जयपाल यादव, बिरेन्द्र पासवान, बीरलाल यादव, दीपक सोनी तथा श्रीमती पुनिता सोनी, सुशीला राजभर आदि ने अपना-अपना विचार व्यक्त किया। संचालन राजन कनौजिया ने किया।