ALL क्राइम न्यूज स्वास्थ्य घरेलू नुस्खे उत्तर प्रदेश अध्यात्म कोरोना वायरस देश बलिया समाचार दुष्कर्म मनोरंजन
22 वर्षीय प्रेमी को प्रेमिका के कपड़े पहनाकर पेड़ से लटकाकर मौत के घाट उतारा
September 26, 2020 • परिवर्तन चक्र • क्राइम न्यूज

वाराणसी में 22 वर्षीय प्रेमी को प्रेमिका के कपड़े पहनाकर पेड़ से लटकाकर मौत के घाट उतार दिया गया. बड़ागांव थाना क्षेत्र के वाजिदपुर में हुई इस घटना की जानकारी मिलने पर पुलिस मौके पर पहुंच गई. पुलिस ने घटनास्थल का निरीक्षण करने के बाद शव को पोस्टमॉर्टम के लिए भेज दिया. ये पूरा मामला प्रेम प्रसंग का है.

वाराणसी में 22 वर्षीय प्रेमी को प्रेमिका के कपड़े पहनाकर पेड़ से लटकाकर मौत के घाट उतार दिया गया.  इस  घटना की जानकारी मिलने पर पुलिस मौके पर पहुंची. पुलिस ने घटनास्थल का निरीक्षण करने के बाद शव को पोस्टमॉर्टम के लिए भेज दिया है. ये पूरा मामला प्रेम प्रसंग का है.

बड़ागांव थाना क्षेत्र के  वाजिदपुर गांव के बाहरी हिस्से में पेड़ पर बृजेश का शव लटका मिला. गांव वालों ने जब शुक्रवार सुबह ये नजारा देखा, तो दंग रह गए. युवक के शरीर पर युवती के कपड़े थे. गांव वालों ने मृतक की शिनाख्त के बाद पुलिस को सूचना दी. 

मौके पर पहुंची पुलिस ने घटनास्थल का निरीक्षण किया, जिसके बाद शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया. वहीं बृजेश की मौत की सूचना पर पूरा परिवार मौके पर पहुंच गया. बृजेश के पिता प्रेम नारायण ने गांव के ही लोगों पर हत्या का आरोप लगाया. 

पुलिस ने बताया कि गांव की ही युवती से उसका प्रेम प्रसंग था, जिसका विरोध लड़की के घरवालों द्वारा किया जा रहा था. इसी मामले में करीब साढ़े तीन माह पहले बृजेश पर जानलेवा हमला भी कराया गया, जिसमें उसे गंभीर चोटें आईं. पुलिस से जब इस मामले में शिकायत की गई, तो कोई सुनवाई नहीं हुई.
 
मृतक के पिता प्रेम नारायण ने बताया कि सुबह जब परिवार के सदस्य जागे, तो घर का दरवाजा बंद था. किसी तरह घर से बाहर आने के बाद घटना की जानकारी मिल सकी. बृजेश को जिस लड़की के कपड़े पहनाए गए हैं, वे भी उसी लड़की के हैं, जिसे वह प्यार करता था.   

वहीं, इस मामले में एसपी ग्रामीण मार्तण्ड प्रताप सिंह ने बताया कि मृतक के हाथ-पैर बंधे मिले. प्रथम दृष्टया मामला हत्या का लग रहा है. परिजनों की शिकायत पर पुलिस ने आरोपियों को हिरासत में ले लिया है. उनसे पूछताछ की जा रही है. 

जब एसपी ग्रामीण से युवक पर पूर्व में हुए हमले के बारे में पूछा गया तो उन्होंने इस सवाल से बचते हुए बताया कि 8 जून को लड़का-लड़की भाग गए थे. दोनों को शिवपुर से बरामद  किया गया था, जिसके बाद लड़का पुलिया से कूद गया था. इस मामले में एसीजेएम के यहां लड़के के परिवार वालों ने परिवाद दाखिल किया था, लेकिन उस पर कोई कार्रवाई नहीं हुई.