ALL ताजा खबरें राष्ट्रीय समाचार परिवर्तन चक्र स्पेशल शिक्षा समाचार दुनिया समाचार क्रिकेट समाचार मनोरंजन समाचार पॉलिटिक्स समाचार क्राइम समाचार साहित्य संग्रह
15 जून को "विश्व पवन (वायु) दिवस" पर विशेष-प्रकृति के पाँच मूलभूत तत्वों में अति महत्वपूर्ण हैः "वायु" : डाॅ० गणेश पाठक
June 15, 2020 • परिवर्तन चक्र


बलिया। समग्र विकास एवं शोध संस्थान बलिया के सचिव पर्यावरणविद् डाॅ० गणेश कुमार पाठक ने आज विश्व पवन (वायु) दिवस पर एक विशेष भेंटवार्ता में वायु के महत्व एवं वायु के प्रकार के संबंध में चर्चा करते हुए बताया कि प्रकृति के पाँच मूलभूत तत्वों (क्षिति, जल, पावक, गगन, समीर) में वायु (समीर) अति महत्वपूर्ण तत्व है जो जीवन का आधार है। वायु के बिना हम जीने की कल्पना भी नहीं कर सकते। यही कारण है कि जिस ग्रह के पास उसका वायुमंडल नहींं है, उस ग्रह पर जीवन नहीं है।

वातावरण के भीतर एक अदृश्य रूपमें स्वादरहित एवं गंधरहित वायु मौजूद रहती है, जिसमें अनेक गैसें मिली होती हैं। वायु में एक तरह का भार भी होता है, जिसका आभास हमें उँचाई पर जाने पर होता है। यही कारण है कि जब हम उँचे पहाड़ों के उपरी चोटी पय्र जाते हैं या वायुयान में ऊँचाई पर यात्रा करते हैं तो हमें आक्सीजन की आवश्यकता पड़ती है।वायु का दाब ऊँचाई पर कम होने के कारण ही ऐसा होता है और कभी- कभी तो हमारे नाक-कान से खून भी निकलने लगता है। पृथ्वी के सतह के निकट वायु अति सघन होती है। कारण कि यहाँ पृथ्वी का गुरूत्वाकर्षण बल काम करता है। किन्तु यही वायु ऊँचाई पर विरल हो जाती है।

क्यों प्रवाहित होती है वायु - 

वायु के प्रवाहित होने का मुख्य कारण वायु का दाब होता है। वायु अधिक दाब से निम्न दाब की तरफ प्रवाहित होती है।कारण कि जब निम्न वायुदाब की हवा हल्की होकर ऊपर की तरफ उठती है तो वह स्थान वायुरिक्त हो जाता है और उस रिक्त स्थान कै भरने के लिए उस स्थान के निकटवर्ती क्षेत्रों से ठण्डी हवा उस स्थान पर लपकती है। वायु की दिशा एवं वेग दोनों ही वायुदाब की प्रवणता पय निर्भर करता है। इस तरह धरातल पर वायु के प्रवाहित होने का प्रमुख कारण वायुदाब में अंतर ही होता है।

धरातल के लगभग समान्तर प्रवाहित होने वाली वायु को ही पवन कहा जाता है। जलवायुवेत्ता ट्रिवार्था के अनुसार ऐसी गतिशील वायु को पवन कहा जाता है जिसकी दिशा अनिवार्यतः पृथ्वी तल के समान्तर होती है। वायु उधर्वाधर एवं क्षैतिज दोनों रूपोमें प्रवाहित होतीहैं।

कैसी-कैसी होती हैं हवाएँ-

हवाएँ मुख्य रूपसे तीन प्रकार की होती हैं- स्थाई, अस्थाई एवं स्थानीय पवन। जिस दिशा में पूरे वर्ष हवाएँ चलती हैं, उन्हें स्थाई या प्रचलित या निश्चिंत या ग्रहीय या सनातनी हवाएँ कहा जाता है। इनको तीन उपवर्गों में बाँटा गया है- व्यापारिक या संमार्गी पवन, पछुवा पवन एवं ध्रुवीय पवन। अस्थाई हवाएँ मानसूनी हवाएँ होती हैं, जिनका वर्षा के परिप्रेक्ष्य में विशेष महत्व होता है। किसी क्षेत्र में मौसम के अनुसार प्रवाहित होने की हवा को मानसूनी वायु कहा जाता है जो वर्ष में कमसे कम दो बार अपनी दिशा अवश्य बदल देती है। मानसूनी हवाएँ भी दो प्रकार की होती हैं-ग्रीष्मकालीन मानसून एवं शीतकालीन मानसून। तीसरी स्थानीय पवनें किसी स्थान विशेष से प्रवाहित होती हैं इसी लिए इन्हें स्थानीय पवन कहा जाता है। स्थानीय पवनों में सागरीय एवं स्थलीय समीर, पर्वतीय एवं घाटी समीर, चिनूक, फाँन, सिराको,खमसिन, बोरा, हरमट्टन, लू, ब्लिजर्ड आदि मुख्य हैं। इसके अतिरिक्त कुछ क्षेत्रों इनसे भिन्न शीत एवं उष्ण स्थानीय हवाएँ भी प्रवाहित होती हैं। ये स्थानीय हवाएँ अपने गुण एवं प्रभाव के अनुसार ही अलग-अलग देशों में अलग- अलग नामों से पुकारी जाती हैं। ये सँथानीय हवाएँ स्थानीय स्तर पर आँधी-तुफान एवं वर्षा लाने में भी महत्वपूर्ण भूमिका निभाती हैं। जैसे भारत में गर्मी में सक्रिय 'लू' एवं जाड़े में शीत लहर का प्रभाव तथा गर्मी में स्थानीय स्तर पर चक्रवातीय हवाओं का उत्पन्न होना। इस प्रकार सभी हवाओं का अपना-अपना गुण एवं अवगुण होता है, जिसके अनुसार ये अपने प्रभाव क्षेत्र को प्रभावित करते हुए मौसम के परिवर्तन में भी अहम् भूमिका निभाती हैं।