ALL क्राइम न्यूज स्वास्थ्य घरेलू नुस्खे उत्तर प्रदेश अध्यात्म कोरोना वायरस देश बलिया समाचार दुष्कर्म मनोरंजन
’पीसीवी टीका व विटामिन ए संपूरण’ कार्यक्रम का जिलाधिकारी श्रीहरि प्रताप शाही ने किया शुभारंभ
August 13, 2020 • परिवर्तन चक्र


 
निमोनिया से बचाव के लिए अब लगाया जायेगा पीसीवी का टीका

नौ माह से पांच वर्ष तक के बच्चों को दी जाएगी विटामिन-ए की खुराक 

बलिया। निमोनिया से बचाव के लिए बने न्यूमोकोकल कंज्यूगेट वैक्सीन (पीसीवी) के टीके के साथ ही ‘विटामिन ए संपूरण’ कार्यक्रम के आयोजित होने वाले बाल स्वास्थ्य पोषण माह का शुभारंभ जिलाधिकारी श्रीहरि प्रताप शाही ने गुरुवार को अमृतपाली में फीता काटकर शुभारंभ किया। इस दौरान कोविड-19 नियमों और बचाव का ध्यान रखते हुये जिलाधिकारी ने बच्चों को विटामिन-ए की खुराक पिलाई। उन्होंने बताया कि पीसीवी टीका बच्चों को निमोनिया, डायरिया, मेनिनजाइटिस तथा सेप्सिस जैसी गंभीर बीमारियों से बचाएगा। जिलाधिकारी ने स्वास्थ विभाग के अधिकारियों से कहा कि इस अभियान को शत-प्रतिशत आच्छादित किया जाए।

जिला प्रतिरक्षण अधिकारी डॉ0 एके मिश्रा ने बताया कि बाल स्वास्थ्य पोषण माह के दौरान नौ माह से एक वर्ष तक के बच्चे को यह खुराक एक चम्मच (एक एमएल) दी जाएगी, जबकि एक वर्ष से पांच वर्ष तक के बच्चों को दो चम्मच (दो एमएल) दी जाएगी। खुराक देने के लिए हर बच्चे के लिए अलग-अलग चम्मच रहेगा। एक ही चम्मच से दूसरे बच्चे को खुराक नहीं दी जाएगी जिससे कोविड-19 के प्रोटोकॉल का पालन किया जा सके। यह खुराक बुधवार और शनिवार को वीएचएसएनडी सत्र (ग्रामीण स्वास्थ्य, स्वच्छता एवं पोषण दिवस) के दौरान दी जाएगी। उन्होंने बताया कि पहली खुराक नौ माह के बाद जबकि दूसरे साल छह-छह माह पर दो-दो खुराक दी जाएगी। पांच वर्ष तक के बच्चे को कुल नौ खुराक दी जाएगी। अभियान में जिले के लगभग 4.07 लाख बच्चों को खुराक देने का लक्ष्य रखा गया है। डॉ0 एके मिश्रा ने बताया कि अब से ग्रामीण स्वास्थ्य, स्वच्छता एवं पोषण दिवस (वीएचएसएनडी) में डेढ़ माह, साढ़े तीन माह और नौ माह के बच्चों को भी पीसीवी का टीका लगेगा। यह वैक्सीन बच्चों को निमोनिया के साथ ही कान का इन्फेक्शन, खून का इन्फेक्शन, दिमागी बुखार का इन्फेक्शन दूर कर उससे बचाव करेगी। इसके साथ ही यह टीका राष्ट्रीय नियमित टीकाकरण कार्यक्रम में शामिल हो गया है।  

इस अवसर पर सीडीओ विपिन कुमार जैन, सीएमओ जितेंद्र पाल, अपर मुख्य चिकित्सा अधिकारी, जिला कार्यक्रम प्रबंधक, डब्ल्यूएचओ से एसएमओ एवं अन्य विभागीय कर्मचारी उपस्थित रहे।